July 13, 2024 10:31 am

देश हित मे......

अब दवा से उग जाएंगे आपके टूटे हुए दांत, वैज्ञानिकों ने कर दिया कमाल, यहां शुरू हुआ ह्यूमन ट्रायल

ओसाका (जापान). जानवरों पर किए गए टेस्‍ट में मिली सफलता के बाद जापानी (Japan) फार्मास्‍युटिकल स्‍टार्टअप ने खोए हुए दांतों को फिर से उगाने वाली अपनी नई दवा का ह्यूमन क्लिनिकल ट्रायल शुरू करने की तैयारी कर ली है. इस दवा को अपनी तरह की दुनिया की सबसे पहली दवा कहा जा रहा है. जापान टाइम्‍स ने इस बारे में बड़ी रिपोर्ट जारी की है. उसका दावा है कि दवा के बाद जानवरों में सफलतापूर्वक नए दांत उगाए हैं. इसी दवा से 5 साल पहले चूहों में नए दांत उगाए गए थे.

प्रोजेक्ट के प्रमुख शोधकर्ता और मेडिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट किटानो अस्पताल में दंत चिकित्सा और सर्जरी विभाग के प्रमुख डॉ. कात्सु ताकाहाशी ने बताया कि हर डेंटिस्‍ट का सपना होता है कि वह नए दांत उगा सके. उन्‍होंने बताया कि इस प्रोजेक्‍ट पर लंबे समय से काम हो रहा था और मुझे पूरा भरोसा था कि मैं ऐसा कर पाऊंगा. और अब उन वयस्कों को राहत मिलेगी जिन्‍होंने किसी कारण से अपना दांत खो दिया था. इस बारे में रिसर्च पेपर जारी किया गया है.

क्योटो विश्वविद्यालय और फुकुई विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों को मिली सफलता
उन्‍होंने कहा कि बच्‍चों को उनके दांत टूटने पर टूथ फेरी (दांत वाली परी) की कहानी बताई जाती है जो तकिए के नीचे छोटा सा गिफ्ट दे जाती है और जल्‍द ही दांत उग जाता है. अब दवा को स्वीकृति मिल जाने के बाद वयस्‍कों में भी दांत उगाया जा सकेगा. क्योटो विश्वविद्यालय और फुकुई विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के एक नए अध्‍ययन ने आशाएं जगा दी हैं. इसकी रिपोर्ट है कि एक जीन के लिए एक एंटीबॉडी- गर्भाशय संवेदीकरण से संबंधित जीन-1 या USAG-1- टूथ एजेनेसिस, एक जन्मजात स्थिति से पीड़ित चूहों में दांतों के विकास को उत्तेजित कर सकता है.

ये भी पढ़ें- चांद और सूरज के बाद ISRO का क्‍या है अगला टारगेट? जानें उस मिशन की अहम बातें

जिस आनुवांशिक कारण से अधिक दांत उगते हैं, उसकी पहचान से मिली सफलता
हालाँकि सामान्य वयस्क के मुँह में 32 दाँत होते हैं, लगभग 1% आबादी में जन्मजात स्थितियों के कारण ये कम या ज्यादा होते हैं. वैज्ञानिकों ने वयस्कों में दांतों को पुनर्जीवित करने की कोशिश में उन आनुवांशिक कारणों का पता लगाया है जिनके कारण सामान्‍य की अपेक्षा अधिक दांत हो जाते हैं. डॉ. कात्सु ताकाहाशी ने बताया कि वह 2005 से क्योटो विश्वविद्यालय में इसको लेकर शोध कर रहे हैं. ताकाहाशी ने चूहों में एक विशेष जीन के बारे में पता लगाया जो उनके दांतों के विकास को प्रभावित करता है. इस जीन के लिए एंटीबॉडी, यूएसएजी-1, दांतों के विकास को प्रोत्साहित करने में मदद कर सकता है.

दांतों को उगाने के लिए चूहों और नेवले पर किए गए सफल परीक्षण
वैज्ञानिकों ने तब से एक ‘निष्क्रिय एंटीबॉडी दवा’ विकसित करने के लिए काम किया है जो यूएसएजी-1 को अवरुद्ध करने में सक्षम है. अब, उनकी टीम इस सिद्धांत का परीक्षण कर रही है कि इस प्रोटीन को “अवरुद्ध” करने से अधिक दांत बढ़ सकते हैं. चूहों पर अपने सफल परीक्षणों के बाद, टीम ने फेरेट्स (नेवले) पर भी इसी तरह के सकारात्मक परीक्षण किए – ऐसे जानवर जिनके दांतों का पैटर्न इंसानों के समान होता है.

Tags: Controlled Clinical Trial, Japan News, Researcher, Science news

Source link

traffictail
Author: traffictail

Facebook
Twitter
WhatsApp
Reddit
Telegram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बरेली। पोल पर काम करते संविदा कर्मचारी को लगा करंट, लाइनमैन शेर सिंह की मौके पर ही मौत, घंटो पोल पर लटका रहा शव, परिजनों ने लगाया विभाग पर लापरवाही का आरोप, बिथरी चैनपुर थाना क्षेत्र के एफसीआई गोदाम के पास की घटना, पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेजा,

सहारा ग्रुप के सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय सहारा श्री का मुंबई मे मंगलवार देर रात निधन, लंबे समय से बीमार चल रहे थे सहारा श्री, उनका इलाज मुंबई के एक निजी अस्पताल मे चल रहा था। बुधवार को उनका पार्थिव शरीर लखनऊ के सहारा शहर लाया जायेगा,जहा उन्हे अंतिम श्रद्धांजलि दी जाएगी।

बरेली । आबादी में चला रहे पटाखा व्यापारियों पर प्रशासन का शिकंजा, डीएम रविंद्र कुमार ने प्रतीक शर्मा की शर्मा ट्रेडर्स, रेशमा की मिलन ट्रेडर्स, मुकेश सिंघल की सिंघल फायर ट्रेडर्स, अंकुश पावा की हरदेव ट्रेडर्स और पूर्व विधायक केसर सिंह के बेटे विशाल ट्रेडर्स के थोक के लाइसेंस सस्पेंड कर दिए गए हैं। इज्जत नगर थाना क्षेत्र के 100 फुटा रोड पर थी पटाखा दुकान, पटाखा व्यापारियों में मची खलबली,

Weather Forecast

DELHI WEATHER

पंचांग