July 13, 2024 9:57 am

देश हित मे......

मालदीव में क्यों तैनात हैं भारतीय सैनिक? जिसे हटाना चाहते हैं चीनी समर्थक नए राष्ट्रपति

चीन (China) के करीबी माने जाने वाले मालदीव  (Maldives) के नए राष्ट्रपति मोहम्मद मुइजू (Mohamed Muizzu) ने गद्दी संभालते ही रंग दिखाना शुरू कर दिया है. मुइजू ने ऐलान किया है वह मालदीव से भारतीय सैनिकों को हटाएंगे. उन्होंने कहा कि चुनाव नतीजों ने बता दिया है कि मालदीव के लोग यहां विदेशी सेना की मौजूदगी नहीं चाहते हैं. मैं अपने नागरिकों की इच्छा का सम्मान करूंगा. विदेशी सैनिकों को वापस भेजने की प्रक्रिया जल्द शुरू होगी.

चीनी कम्यूनिस्ट पार्टी (CPC) के करीबी मुइजू (Mohamed Muizzu) की पार्टी पीपीएम और गठबंधन सहयोगी पीएनसी लगातार मालदीव में भारतीय सेना (Indian Army) की मौजूदगी का विरोध करती आई हैं. चुनाव में दोनों पार्टियों का यह प्रमुख एजेंडा था. मुइजू ने भारतीय सैनिकों के खिलाफ ”इंडिया आउट” (India Out) का नारा दिया था. वह लगातार कहते रहे हैं कि मालदीव में भारतीय सेना की मौजूदगी उनके देश की संप्रभुता के लिए खतरा है.

मालदीव में क्यों तैनात हैं भारतीय सैनिक
मोहम्मद मुइजू (Mohamed Muizzu) से पहले इब्राहिम मोहम्मद सोलिह मालदीव के राष्ट्रपति थे. उनके कार्यकाल में भारत-मालदीव काफी करीब आए. भारत का प्रभुत्व बढ़ा. भारत ने न सिर्फ मालदीव में अच्छा-खासा निवेश किया बल्कि इंफ्रास्ट्रक्चर से लेकर तमाम चीजें डेवलप करने में मदद की. 2 हेलीकॉप्टर और एक डोनियर एयरक्राफ्ट भी डोनेट किया. जो इमरजेंसी मेडिकल सर्विसेज, रेस्क्यू और समुद्र की निगरानी और पैट्रोलिंग के काम आते हैं.

मालदीव में जो भारतीय सैनिक तैनात हैं, वो इन्हीं इन्हीं हेलीकॉप्टर-एयरक्राफ्ट को मेंटेन और ऑपरेट करने के लिए वहां तैनात हैं.

कौन हैं मालदीव के नए राष्ट्रपति मोहम्मद मुइजू? सत्ता बदलते ही ‘ऑपरेशन कैक्टस’ की चर्चा क्यों

मालदीव में भारत के कितने सैनिक तैनात हैं?
मालदीव में तैनात भारतीय सैनिकों की संख्या कितनी है, इसका कोई आधिकारिक आंकड़ा नहीं है. TRT WORLD की एक रिपोर्ट के मुताबिक मालदीव में भारतीय सेना की बहुत छोटी टुकड़ी तैनात है और कुल सैनिकों की संख्या महज 75 के आसपास है.

मुइजू भारत विरोध को देते रहे हैं हवा
मालदीव के नए राष्ट्रपति मोहम्मद मुइजू (Mohamed Muizzu) का भारतीय सैनिकों का विरोध कोई नई बात नहीं है. राष्ट्रपति चुने जाने से पहले तक वह माले शहर के मेयर थे. उनके मेयर रहते माले में भारतीय सैनिकों के खिलाफ बड़ा प्रदर्शन हुआ. ‘इंडियन मिलिट्री आउट’ का नारा देते हुए हजारों लोग सड़क पर उतरे थे. तब सोलिह की सरकार ने दो टूक कहा था कि भारत, मालदीव का मजबूत सहयोगी और भरोसेमंद पड़ोसी है. ऐसे में भारतीय सेना से मालदीव की संप्रभुता को कोई खतरा नहीं है.

पुरानी सरकार का क्या स्टैंड था?
विपक्ष पार्टियों के दबाव के बाद सोलिह सरकार में रक्षा मंत्री मारिया दीदी को भी सार्वजनिक तौर पर बयान देना पड़ा था. तब उन्होंने कहा था कि मालदीव में जो भी भारतीय सैनिक तैनात हैं, उनके पास कोई हथियार नहीं हैं. ऐसे में वे मालदीव की संप्रभुता के लिए किसी तरह से खतरा नहीं हैं.

भारत के लिए क्यों इतना अहम है मालदीव?
मालदीव सामरिक और रणनीतिक, दोनों नजरिये से भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण है. हिंद महासागर से जो मालवाहक जहाज गुजरते हैं, वो मालदीव से होकर जाते हैं. एक तरीक से यह केंद्र बिंदु है. हिंद महासागर में अपना प्रभुत्व जमाने के लिए चीन, लगातार मालदीव को अपने पाले में लाने की कोशिश करता रहा है. दूसरा- भारत के लक्षद्वीप से मालदीव बस 700 किलोमीटर दूर है. ऐसे में वहां से भारत पर नजर रखना चीन के लिए आसान है. हालांकि पूर्ववर्ती सोलिह सरकार में चीन की दाल नहीं गल पाई. लेकिन मुइजू के सत्ता में आने के बाद भारत की चिंता लाजिमी है.

Tags: China, India china, Maldives

Source link

traffictail
Author: traffictail

Facebook
Twitter
WhatsApp
Reddit
Telegram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बरेली। पोल पर काम करते संविदा कर्मचारी को लगा करंट, लाइनमैन शेर सिंह की मौके पर ही मौत, घंटो पोल पर लटका रहा शव, परिजनों ने लगाया विभाग पर लापरवाही का आरोप, बिथरी चैनपुर थाना क्षेत्र के एफसीआई गोदाम के पास की घटना, पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेजा,

सहारा ग्रुप के सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय सहारा श्री का मुंबई मे मंगलवार देर रात निधन, लंबे समय से बीमार चल रहे थे सहारा श्री, उनका इलाज मुंबई के एक निजी अस्पताल मे चल रहा था। बुधवार को उनका पार्थिव शरीर लखनऊ के सहारा शहर लाया जायेगा,जहा उन्हे अंतिम श्रद्धांजलि दी जाएगी।

बरेली । आबादी में चला रहे पटाखा व्यापारियों पर प्रशासन का शिकंजा, डीएम रविंद्र कुमार ने प्रतीक शर्मा की शर्मा ट्रेडर्स, रेशमा की मिलन ट्रेडर्स, मुकेश सिंघल की सिंघल फायर ट्रेडर्स, अंकुश पावा की हरदेव ट्रेडर्स और पूर्व विधायक केसर सिंह के बेटे विशाल ट्रेडर्स के थोक के लाइसेंस सस्पेंड कर दिए गए हैं। इज्जत नगर थाना क्षेत्र के 100 फुटा रोड पर थी पटाखा दुकान, पटाखा व्यापारियों में मची खलबली,

Weather Forecast

DELHI WEATHER

पंचांग