June 20, 2024 4:52 am

देश हित मे......

Matra Navami Shradh 2023: मातृ नवमी आज, माता पितरों के आशीर्वाद से दोष होंगे दूर, जानें तिथि, श्राद्ध समय और महत्व

हाइलाइट्स

आश्विन कृष्ण नवमी तिथि की शुरूआत आज सुबह 08 बजकर 08 मिनट से है.
नवमी श्राद्ध का समय सुबह 11 बजकर 45 मिनट से शुरू है.
मातृ नवमी श्राद्ध पर कुतुप मूहूर्त 11 बजकर 45 मिनट से दोपहर 12 बजकर 32 मिनट तक है.

आज 7 अक्टूबर को पितृ पक्ष की नवमी तिथि है. इसे मातृ नवमी या मातृ नवमी श्राद्ध के नाम से जानते हैं. मातृ नवमी श्राद्ध के दिन माता पितरों के लिए तर्पण, पिंडदान, श्राद्ध आदि करते हैं. आज उन लोगों का भी श्राद्ध होता है, जिनका निधन किसी भी मा​ह की नवमी तिथि को हुआ हो. पितृ पक्ष की नवमी तिथि के दिन माता पितरों को प्रसन्न करते हैं ताकि उनका आशीर्वाद प्राप्त हो और दोष दूर हों. तिरुपति के ज्योतिषाचार्य डॉ. कृष्ण कुमार भार्गव से जानते हैं ​मातृ नवमी की सही तिथि, श्राद्ध समय और महत्व के बारे में.

मातृ नवमी श्राद्ध 2023 की सही तिथि क्या है?
वैदिक पंचांग के अनुसार, आश्विन माह के कृष्ण पक्ष की नवमी तिथि को मातृ नवमी मनाई जाती है. इस साल आश्विन कृष्ण नवमी तिथि की शुरूआत आज सुबह 08 बजकर 08 मिनट से है और यह तिथि कल सुबह 10 बजकर 12 मिनट तक मान्य है. ऐसे में मातृ नवमी श्राद्ध आज है.

यह भी पढ़ें: पितृ पक्ष में करें इन 5 सब्जियों का सेवन, नाराज पितर हो जाएंगे खुश, आपके शुरू होंगे अच्छे दिन

मातृ नवमी 2023 श्राद्ध का समय
आज मातृ नवमी श्राद्ध का समय सुबह 11 बजकर 45 मिनट से शुरू होकर दोपहर 03 बजकर 41 मिनट तक है. सूर्यास्त के बाद श्राद्ध कर्म नहीं करना चाहिए. मातृ नवमी श्राद्ध पर कुतुप मूहूर्त 11 बजकर 45 मिनट से दोपहर 12 बजकर 32 मिनट तक है. कुतुप मूहूर्त की अवधि 47 मिनट की है.

नवमी श्राद्ध के लिए रौहिण मूहूर्त दोपहर 12 बजकर 32 मिनट से दोपहर 01 बजकर 19 मिनट तक है. रौहिण मूहूर्त का कुल समय 47 मिनट है. इसके बाद अपराह्न काल दोपहर 01 बजकर 19 मिनट से दोपहर 03 बजकर 40 मिनट तक है. यह अवधि 02 घंटे 21 मिनट तक है.

यह भी पढ़ें: पितृ पक्ष में भूलकर भी न खाएं यह फल, नाराज हो जाएंगे पितर, लेकिन यह फल कर देगा खुश

पितृ पक्ष में मातृ नवमी श्राद्ध का महत्व
मातृ नवमी श्राद्ध के दिन माता, दादी, नानी पक्ष की सभी माता पितरों का श्राद्ध कर्म करते हैं. यदि आपके ससुराल पक्ष में कोई वंश नहीं है तो आप उनके माता पितरों की तृप्ति के लिए तर्पण, पिंडदान, ब्राह्मण भोज आदि कर सकते हैं.

मातृ पितरों को कैसे करें तृप्त?
आज स्नान के बाद काले तिल, चावल और जल से माता पितरों के लिए तर्पण करें. तर्पण के समय कुशा की पवित्री धारण करें. कुशा के अग्र भाग से जल ​अर्पित करना चाहिए, उसे पितर आसानी से ग्रहण करके तृप्त हो जाते हैं. इसके बाद माता पितरों के लिए सफेद वस्त्र, दही, अन्न, केला, मौसमी फल आदि का दान किसी ब्राह्मण को करें. उसके बाद कोई एक बर्तन दक्षिणा के रूप में दें.

आज के दिन माता पितरों के लिए ब्राह्मण भोज करें. गाय, कौआ, कुत्ता, देव आदि के लिए भोजन का एक अंश निकाल दें. उनको खिला दें. इसे पंचबलि कर्म कहते हैं. इनके माध्यम से पितरों को भोजन प्राप्त होता है. वे संतुष्ट होकर सुख और समृद्धि का आशीर्वाद देते हैं.

Tags: Dharma Aastha, Pitru Paksha

Source link

traffictail
Author: traffictail

Facebook
Twitter
WhatsApp
Reddit
Telegram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बरेली। पोल पर काम करते संविदा कर्मचारी को लगा करंट, लाइनमैन शेर सिंह की मौके पर ही मौत, घंटो पोल पर लटका रहा शव, परिजनों ने लगाया विभाग पर लापरवाही का आरोप, बिथरी चैनपुर थाना क्षेत्र के एफसीआई गोदाम के पास की घटना, पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेजा,

सहारा ग्रुप के सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय सहारा श्री का मुंबई मे मंगलवार देर रात निधन, लंबे समय से बीमार चल रहे थे सहारा श्री, उनका इलाज मुंबई के एक निजी अस्पताल मे चल रहा था। बुधवार को उनका पार्थिव शरीर लखनऊ के सहारा शहर लाया जायेगा,जहा उन्हे अंतिम श्रद्धांजलि दी जाएगी।

बरेली । आबादी में चला रहे पटाखा व्यापारियों पर प्रशासन का शिकंजा, डीएम रविंद्र कुमार ने प्रतीक शर्मा की शर्मा ट्रेडर्स, रेशमा की मिलन ट्रेडर्स, मुकेश सिंघल की सिंघल फायर ट्रेडर्स, अंकुश पावा की हरदेव ट्रेडर्स और पूर्व विधायक केसर सिंह के बेटे विशाल ट्रेडर्स के थोक के लाइसेंस सस्पेंड कर दिए गए हैं। इज्जत नगर थाना क्षेत्र के 100 फुटा रोड पर थी पटाखा दुकान, पटाखा व्यापारियों में मची खलबली,

Weather Forecast

DELHI WEATHER

पंचांग