June 22, 2024 4:10 am

देश हित मे......

Israel Hamas War: हमास को मिटाने की पूरी तैयारी कर चुका इजरायल, फिर गाजा पर चढ़ाई में क्यों हो रही हिचकिचाहट? एक्सपर्ट ने बताई वजह

नई दिल्ली: इजरायल गाजा पर जमीनी आक्रमण के लिए अपने सैनिकों को एकत्रित कर रहा है. इजरायल में जनता और राष्ट्रीय सुरक्षा प्रतिष्ठान हमास आतंकवादियों द्वारा किए गए हमलों के लिए प्रतिशोध की मांग कर रहे हैं, जिसमें 1000 से अधिक इजरायली लोगों की जान चली गई. लेकिन गाजा की घनी आबादी, सुरंगों के जटिल भूमिगत नेटवर्क और इजरायलियों, अमेरिकियों और अन्य लोगों को बंधक बनाए जाने के खतरे के कारण जमीनी आक्रमण फिलहाल एक मुश्किल कार्य प्रतीत हो रहा है.

पूर्व अमेरिकी रक्षा सचिव और सीआईए निदेशक लियोन पैनेटा ने मंगलवार को ब्लूमबर्ग टेलीविजन के ‘बैलेंस ऑफ पावर’ कार्यक्रम में कहा, ‘समस्या यह है कि गाजा में प्रवेश करने के बाद यह मूल रूप से घर-घर की लड़ाई है. और इसलिए इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है. लेकिन दूसरी ओर, मुझे लगता है कि यह बहुत स्पष्ट है कि इजरायल ने फैसला कर लिया है कि उन्हें गाजा में हमास को कुचलना है.’

गाजा पट्टी में इजरायल के जमीनी आक्रमण से दोनों पक्षों को भारी नुकसान होगा और यह सवाल उठेगा कि क्या इजरायल संघर्ष से बाहर निकलने की रणनीति तैयार कर सकता है. यह मध्य पूर्व में भी प्रभाव पैदा करेगा, अपने अरब पड़ोसियों के साथ इजरायल के नाजुक मेलजोल को खतरे में डालेगा और यह जोखिम बढ़ाएगा कि संघर्ष एक व्यापक क्षेत्रीय युद्ध में बदल जाएगा. एक अमेरिकी अधिकारी ने कहा कि आक्रमण के बाद जो कुछ होता है, वह इराक में 2004 के बैटल ऑफ फालुजा जैसा हो सकता है, जिसमें सड़क-दर-सड़क खूनी लड़ाई शामिल थी.

इजरायली सेना के खिलाफ गाजा में हमास का प्रतिरोध भयानक हो सकता है
नाम न छापने की शर्त पर संवेदनशील मामले पर चर्चा करने वाले अधिकारी के अनुसार, इजरायली सेना के खिलाफ गाजा में हमास का प्रतिरोध भयानक हो सकता है, खासकर अगर पड़ोसी देश सुदृढीकरण प्रदान करते हैं. इजरायल ने यह घोषणा नहीं की है कि वह गाजा में सेना भेजेगा, लेकिन प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने वादा किया है कि ‘आने वाले दिनों में हम अपने दुश्मनों के साथ जो करेंगे उसका असर पीढ़ियों तक रहेगा.’ जमीनी घटनाक्रम से यह भी पता चलता है कि इजरायल कुछ बड़ी योजना बना रहा है. वह हवा, जमीन और समुद्र से गाजा पर बमबारी कर रहा है.

इजरायल की सेना हजारों सैनिकों को समायोजित करने के लिए गाजा पट्टी के बगल में एक बेस बना रही है, क्योंकि इजरायली टैंकों के काफिले इस क्षेत्र की ओर बढ़ रहे हैं. देश ने पहले ही 300,000 रिजर्विस्ट जुटा लिए हैं- जो इसके इतिहास में सबसे अधिक है. इजरायली सेना के प्रवक्ता रिचर्ड हेचट ने मंगलवार को पत्रकारों से कहा, ‘इजरायल बहुत गंभीर और आक्रामक तरीके से जवाब देने जा रहा है. जानमाल का और अधिक नुकसान होगा.’

गाजा कब्जा करने के लिए काफी बड़ा क्षेत्र है और इसमें बहुत सारे लोग रहते हैं
इस बढ़ती धारणा का एक हिस्सा कि इजरायल जमीनी आक्रमण शुरू करेगा, गाजा में हवाई युद्ध की सीमाओं पर निर्भर करता है. हवाई हमलों से उन सुरंगों, भूमिगत हथियारों के भंडार और तस्करी के मार्गों को साफ करने में सफलता मिलने की संभावना नहीं है जिनके कारण शनिवार का हमला संभव हुआ. अमेरिकी सेना के सेवानिवृत्त फोर स्टार जनरल कीथ अलेक्जेंडर, जो राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी के निदेशक थे, ने कहा- ‘किसी बिंदु पर उन्हें (इजरायली सेना) अंदर (गाजा पट्टी) जाना होगा. वे सीमित ऑपरेशन कर सकते हैं. लेकिन यह कब्जे के लिए काफी बड़ा क्षेत्र है और इसमें बहुत सारे लोग रहते हैं.’

गाजा में सड़क से सड़क तक लड़ाई, जहां दो मिलियन निवासियों को वाशिंगटन, डीसी के दोगुने आकार के क्षेत्र में पैक किया गया है, के परिणामस्वरूप भारी नागरिक हताहत होने की संभावना है. अरब अधिकारियों को डर है कि मृत नागरिकों की तस्वीरें अरब जनता के बीच प्रतिक्रिया पैदा कर सकती हैं, जिससे उनकी सरकारों पर इजरायल के साथ संबंध तोड़ने का दबाव पड़ सकता है. सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी के पूर्व वरिष्ठ खुफिया सेवा अधिकारी और मध्य पूर्व मामलों के विशेषज्ञ विलियम अशर ने कहा, ‘कब्जा जितना लंबा चलेगा, आप इजरायल के लिए समर्थन में उतनी ही अधिक कमी देखेंगे और अरब राज्यों पर उनकी जनता की ओर से उतना अधिक दबाव देखेंगे. इसके राजनीतिक और पीआर संकट में बदलने की संभावना है.’

हमास द्वारा बंधक बनाए गए लोगों को खतरा
हमास ने 7 अक्टूबर की सुबह अपने हमले के दौरान, बच्चों से लेकर बुजुर्ग महिलाओं तक, कई इजरायली और विदेशी नागरिकों को पकड़ लिया. हमास ने कहा है कि जब भी इजरायल बिना किसी चेतावनी के गाजा में नागरिक घरों पर हमला करेगा तो वह एक बंधक को मारने के लिए तैयार है. अगर इजरायली सेना गाजा पट्टी में घुसती है तो फिर इन बंदियों की जान भी खतरे में होगी. इस युद्ध के बहुपक्षीय संघर्ष में बढ़ने का भी गंभीर खतरा है. इजरायल पहले ही लेबनान से रॉकेट हमले देख चुका है, अगर वह सैन्य बल के साथ जवाब देता है तो बहुपक्षीय युद्ध और व्यापक क्षेत्रीय संघर्ष की संभावना बढ़ जाती है.

इन सबके ऊपर ईरान के भी इस युद्ध में शामिल होने की संभावना है. ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई ने मंगलवार को एक समारोह में कहा, ‘गाजा के लोगों का नरसंहार और सामूहिक हत्या इजरायल पर एक बड़ी आपदा लाएगी.’ अमेरिकी जनरलों ने ईरान को इसमें शामिल न होने की चेतावनी दी है और तेहरान को रोकने के लिए क्षेत्र में अपना सबसे बड़ा विमान वाहक पोत यूएसएस गेराल्ड आर. फोर्ड भेजा है.

इजरायल ने 2005 में गाजा से सेना हटा ली थी
यह भी समस्या है कि आक्रमण के बाद क्या होगा. सैन्य कार्रवाई के साथ टिकाऊ राजनीतिक समाधान की कोई गारंटी नहीं है. इजरायल ने 2005 में गाजा से जमीनी सेना हटा ली थी. क्योंकि इस क्षेत्र पर पिछला कब्जा बहुत महंगा साबित हुआ था. इजरायली सैन्य खुफिया विभाग के पूर्व शीर्ष अधिकारी योसी कुपरवासेर ने आतंकवादियों के बारे में कहा, ‘अंत तब होगा जब वे एक ऐसी व्यवस्था को स्वीकार कर लेंगे जिसमें वे भविष्य में आतंकवादी हमलों को अंजाम देने का कोई भी विचार छोड़ देंगे. जब इजरायली आबादी को यह समझ में आ गया कि हमास के बगल में रहने का क्या मतलब है, तो वे हमास के बगल में रहना बंद करने के लिए लगभग कोई भी कीमत चुकाने को तैयार हैं.’

Tags: Gaza Strip, Hamas attack on Israel, Israel, Israel air strikes, Israel gaza attack today

Source link

traffictail
Author: traffictail

Facebook
Twitter
WhatsApp
Reddit
Telegram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बरेली। पोल पर काम करते संविदा कर्मचारी को लगा करंट, लाइनमैन शेर सिंह की मौके पर ही मौत, घंटो पोल पर लटका रहा शव, परिजनों ने लगाया विभाग पर लापरवाही का आरोप, बिथरी चैनपुर थाना क्षेत्र के एफसीआई गोदाम के पास की घटना, पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेजा,

सहारा ग्रुप के सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय सहारा श्री का मुंबई मे मंगलवार देर रात निधन, लंबे समय से बीमार चल रहे थे सहारा श्री, उनका इलाज मुंबई के एक निजी अस्पताल मे चल रहा था। बुधवार को उनका पार्थिव शरीर लखनऊ के सहारा शहर लाया जायेगा,जहा उन्हे अंतिम श्रद्धांजलि दी जाएगी।

बरेली । आबादी में चला रहे पटाखा व्यापारियों पर प्रशासन का शिकंजा, डीएम रविंद्र कुमार ने प्रतीक शर्मा की शर्मा ट्रेडर्स, रेशमा की मिलन ट्रेडर्स, मुकेश सिंघल की सिंघल फायर ट्रेडर्स, अंकुश पावा की हरदेव ट्रेडर्स और पूर्व विधायक केसर सिंह के बेटे विशाल ट्रेडर्स के थोक के लाइसेंस सस्पेंड कर दिए गए हैं। इज्जत नगर थाना क्षेत्र के 100 फुटा रोड पर थी पटाखा दुकान, पटाखा व्यापारियों में मची खलबली,

Weather Forecast

DELHI WEATHER

पंचांग