July 13, 2024 9:39 am

देश हित मे......

EXCLUSIVE: मुझे कोई संघर्ष नहीं करना पड़ा, मेरी सिनेमाई यात्रा बहुत ही अच्छी रही: वहीदा रहमान

नई दिल्ली. सुप्रसिद्ध अभिनेत्री वहीदा रहमान (Waheeda Rehman) को भारतीय सिनेमा में योगदान के लिए प्रतिष्ठित दादा साहब फाल्के पुरस्कार दिए जाने की घोषणा हुई है. 85 वर्ष की वहीदा रहमान वर्ष 1955 में तेलुगू फिल्म ‘रोजुलू माराई’ के एक गाने में पहली बार नजर आई, जो बेहद चर्चित हुई. उस गाने पर फिल्मकार गुरुदत्त की नजर पड़ी और वे उन्हें मायानगरी (मुंबई) खींच लाए. वर्ष 1956 में ‘सीआईडी’ फिल्म से शुरू हुआ सफर आज भी जारी है और उन्होंने करीब 90 फिल्मों में काम किया है. अरविंद दास ने पिछले दिनों वहीदा रहमान से बात की. उनसे हुई बातचीत का एक संपादित अंश प्रस्तुत है:

सवाल: वहीदा जी, बहुत बधाई आपको. क्या दादा साहब फाल्के पुरस्कार मिलने में देर हुई?
वहीदा रहमान: देखिए, जो जिस वक्त होना होता है वही होता है. आगे हो जाता है तो कहते हैं कि बहुत जल्दी मिल गया, अगर बाद में मिले तो कहते हैं देर हो गया. मैं समझती हूं कि ऐसी कोई बात नहीं.

सवाल: पर क्या यह सच नहीं है कि देविका रानी से फाल्के पुरस्कार की शुरुआत हुई और अब तक गिनी चुनी ही महिला कलाकारों को ही पचास सालों में यह पुरस्कार मिला है, जबकि सिनेमा में उनका योगदान पुरुषों से कम नहीं है…
वहीदा रहमान: ऐसी बात नहीं है. देखिए एक तो मैं एक्सपेक्ट नहीं कर रही थी और यह अचानक हुआ. तो मैंने कहा कि ठीक है- दैट्स ऑल. ऐसी कोई बात नहीं कि आगे, पीछे…विवाद शुरू करने की क्या जरूरत है.

सवाल: इस साल मैंने आपकी फिल्म ‘द सॉन्ग ऑफ स्कॉर्पियंस’ देखी, जिसे अनूप सिंह ने निर्देशित किया. फिल्म में इरफान, जो अब नहीं रहे, और इरानी मूल की फ्रेंच अदाकारा गोलशिफतेह फरहानी भी थी. कैसा अनुभव रहा.
वहीदा रहमान: मेरी अब तक की आखिरी फिल्म है ये. इरफान के साथ कोई दृश्य इसमें नहीं है. छोटा सा गेस्ट रोल था, इस फिल्म में. अनूप सिंह की मैंने ‘किस्सा’ देखी थी, जो मुझे बहुत अच्छी लगी थी, तो यह फिल्म मैंने कर ली. अच्छा अनुभव रहा और क्या कहूं.

सवाल: सीआईडी (1956) से अब तक लगभग पैसठ-सत्तर साल का सिनेमाई सफर कैसा रहा है? कैसे मुड़कर आप अपने करियर को देखती हैं.
वहीदा रहमान: मेरी सिनेमाई यात्रा बहुत ही अच्छी रही. क्या कहूं, मेरा करियर शुरू से ही बहुत अच्छा रहा. मुझे कोई संघर्ष नहीं करना पड़ा और सब कुछ होता गया. ऊपर वाले की बहुत दया थी, सब कुछ अच्छा, अच्छा ही होता गया.

सवाल: देवानंद की जन्मशती मनाई जा रही है, जिनके साथ आपने सबसे ज्यादा फिल्में की. कैसे को-स्टार थे वे? आप उन्हें ‘डिसेंट फ्लर्ट’ कहती हैं.
वहीदा रहमान: सीआईडी में मैंने पहली बार साथ में काम किया. उन्होंने कहा कि आप मुझे सिर्फ देव कहोगी. मैंने कहा कि ऐसे कैसे मैं कह सकती हूँ, देव साहब. मैंने कहा कि आप मेरे से बड़े है. बड़े स्टार हैं आप और यह मेरी पहली पिक्चर है. उन्होंने कहा कि नहीं, कोई मिस्टर या साहब नहीं. सिर्फ देव कहो. उन्होंने कहा कि यदि यह तकल्लुफ होती है, तो मैं काम नहीं कर सकता..हमें एक-दूसरे का दोस्त होना चाहिए. काम में मदद करनी चाहिए. तो मैंने कहा कि ठीक है. सिर्फ वहीं थे जिन्हें मैं सिर्फ देव कहती थी, नहीं तो राज जी (राज कपूर), दिलीप साहब (दिलीप कुमार), सुनील जी (सुनील दत्त) वगैरह वगैरह… तो एक कंफर्ट लेवल था उनके साथ. हम एक-दूसरे को समझते थे कि कोई प्रॉब्लम हो तो कैसे सुलझाए. वे इतने फ्रेंडली, प्यार से मिलते थे कि कभी नहीं लगा कि फ्लर्ट कर रहे हैं. वे फ्लर्ट नहीं थे, इसलिए मैं उन्हें डिसेंट फ्लर्ट कहती थी (हंसती हैं).

सवाल: आपकी फिल्मोग्राफी में एक से बढ़कर एक फिल्म है, पर ‘गाइड’ का नाम सबसे ऊपर आता है. कैसे आपने इस फिल्म में रोजी के किरदार के लिए खुद को तैयार किया?
वहीदा रहमान: देव जी ने आर के नारायण की किताब भेजी पढ़ने के लिए. इसके बाद उन्होंने स्क्रिप्ट बनाई पर्ल एस बक के साथ मिल कर तो वो भेजा. फिर डायरेक्टर्स को लेकर काफी अदलाव-बदलाव हुआ. आखिर में विजय आनंद आए जिनके साथ काम करके काफी अच्छा लगा. उनके साथ मैंने ‘काला बाजार’ की थी. देव और गोल्डी (विजय आनंद) से सेट पर मिलना जुलना होता था, वे दोस्त थे. मुझे काफी खुशी हुई कि गोल्डी इसे निर्देशित कर रहे थे.

सवाल: एक जगह आपने कहा है कि सत्यजीत रे ‘गाइड’ को लेकर फिल्म बनाना चाह रहे थे, जब आप उनके साथ ‘अभिजन (1962)’ फिल्म कर रही थी?
वहीदा रहमान: करेक्ट, करेक्ट. मैं तो भूल ही गई थी. अच्छा आपने याद दिलाया.

सवाल: यदि रे ने इसे बनाई होती तो कैसी फिल्म वो होती, किस तरह पर्दे पर उभर कर आती…?
वहीदा रहमान: मुझे नहीं पता, क्योंकि उनका फिल्म बनाने का तरीका, नजरिया हिंदी फिल्मों से बिलकुल अलग था. देखिए, मैं मानती हूँ कि जो होना होता है वही होता है. जिसके नसीब में जो लिखा होता है वही होता है. जब मैं अभिजन कर रही थी तब मिस्टर रे ने कहा कि वहीदा जब वापस बंबई जाओगी तो ये किताब (गाइड) लेकर पढ़ना. मैं फिल्म बनाने की सोच रहा हूँ. मैंने कहा, ग्रेट. फिर कहने लगे कि इसमें डांसिंग रोल है. मैंने कहा, वंडरफुल. मैं बंबई आई, भूल गई. वो भी भूल गए. फिर दो-तीन साल के बाद, वर्ष 1964 में गाइड बननी शुरु हुई तो मैंने कहा कि लो, रोजी मेरे लिए ही लिखी गई थी. सत्यजीत बनाए, या देवानंद बनाएं मुझे ही करना था.

सवाल: उसी दौर में ‘तीसरी कसम’ (1966) फिल्म में भी आप काम कर रही थी. एक तरफ ‘गाइड’ में शास्त्रीयता लिए हुए ‘पिया तोसे नैना लागे रे’ पर डांस कर रही थी, तो दूसरी तरफ ‘तीसरी कसम’ में ‘पान खाए सैंया हमारो’ पर नौटंकी शैली में डांस कर रही थी . कैसे आपने एक साथ शास्त्रीय और लोक को एक साथ साधा?
वहीदा रहमान: देखिए, एक आर्टिस्ट के रूप में हमें समझना पड़ता है कि हीराबाई गाँव की नौटंकी करती है. उसका डांस करने का अंदाज अलग है. यह क्लासिकल नहीं है. वहीं गाइड में रोजी क्लासिकल डांसर है. वो प्रोफेशनल स्टेज डांसर है. हीराबाई नौटंकी भी स्टेज पर करती है, पर उसका तरीका, रवैया अलग है. ये हमें समझना पड़ता है.

सवाल: गाइड के गीत-संगीत के बारे में आप कुछ हमसे शेयर करना चाहें…
वहीदा रहमान: देव का सेंस का म्यूजिक बहुत अच्छा था. उनका और एसडी बर्मन के बीच बहुत अच्छी अंडरस्टैंडिंग थी. कई बार वो दादा को कहते थे कि मजा नहीं आया इस गाने में. तो बर्मन दा कहते थे, कि क्या बात करता है. तब देव कहते थे कि नहीं, दादा नहीं अच्छा लगा, आप दूसरा बनाओ… बहुत अच्छी अंडरस्टैंडिंग थी दोनों में.

सवाल: उम्र के इस पड़ाव पर क्या आप अपने बचपन को याद करती हैं? कोई स्मृति जो आप साझा करना चाहें?
वहीदा रहमान: बचपन की, ओह माय गॉड. (हंसते हुए) अभी कुछ याद नहीं आ रहा… बचपन बहुत अच्छा था. मां-बाप के साथ हम बहुत खुश रहते थे. पिकनिक पर जाते थे. जब मैं भरतनाट्यम डांस करना चाहती थी, तो मेरे वालिद साहब के दोस्त-रिश्तेदार मना कर रहे थे, जिस पर उन्होंने कहा कि ‘हुनर नहीं खराब होता है, आदमी खराब होता है. आप जिस तरह पेश आते हैं उस तरह प्रोफेशन का नाम होता है’. यह बात मुझे बहुत पसंद आई.

सवाल: बिछड़े सभी बारी बारी. गुरुदत्त बहुत जल्दी चले गए. कैसे आप उन्हें याद करती हैं? गुरुदत्त के साथ बनी आपकी फिल्म ‘प्यासा’, ‘साहब बीवी और गुलाम’, ‘कागज के फूल’ आज क्लासिक मानी जाती है.
वहीदा रहमान: मैं न्यूकमर थी उस वक्त. मुझे कुछ समझ नहीं थी. उन्होंने एक के बाद एक ऐसी पिक्चर क्लासिक बनाई, जिसका मैं हिस्सा बनी. पूरा क्रेडिट गुरुदत्त जी का है. मैं लकी थी.

Tags: Waheeda rehman

Source link

traffictail
Author: traffictail

Facebook
Twitter
WhatsApp
Reddit
Telegram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बरेली। पोल पर काम करते संविदा कर्मचारी को लगा करंट, लाइनमैन शेर सिंह की मौके पर ही मौत, घंटो पोल पर लटका रहा शव, परिजनों ने लगाया विभाग पर लापरवाही का आरोप, बिथरी चैनपुर थाना क्षेत्र के एफसीआई गोदाम के पास की घटना, पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेजा,

सहारा ग्रुप के सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय सहारा श्री का मुंबई मे मंगलवार देर रात निधन, लंबे समय से बीमार चल रहे थे सहारा श्री, उनका इलाज मुंबई के एक निजी अस्पताल मे चल रहा था। बुधवार को उनका पार्थिव शरीर लखनऊ के सहारा शहर लाया जायेगा,जहा उन्हे अंतिम श्रद्धांजलि दी जाएगी।

बरेली । आबादी में चला रहे पटाखा व्यापारियों पर प्रशासन का शिकंजा, डीएम रविंद्र कुमार ने प्रतीक शर्मा की शर्मा ट्रेडर्स, रेशमा की मिलन ट्रेडर्स, मुकेश सिंघल की सिंघल फायर ट्रेडर्स, अंकुश पावा की हरदेव ट्रेडर्स और पूर्व विधायक केसर सिंह के बेटे विशाल ट्रेडर्स के थोक के लाइसेंस सस्पेंड कर दिए गए हैं। इज्जत नगर थाना क्षेत्र के 100 फुटा रोड पर थी पटाखा दुकान, पटाखा व्यापारियों में मची खलबली,

Weather Forecast

DELHI WEATHER

पंचांग